राष्ट्रीय संरक्षक व राज्यसभा सांसद अनिल अग्रवाल जी के नेतृत्व में जनसंख्या नीति पर एक प्रेस वार्ता

दिनांक 31/07/ 2021 को गाजियाबाद कलेक्ट्रेट मीडिया सेंटर पर जनसंख्या समाधान फाउंडेशन के राष्ट्रीय संरक्षक व राज्यसभा सांसद अनिल अग्रवाल जी के नेतृत्व में जनसंख्या नीति पर एक प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया, जिसमें हर समाज के लोग उपस्थित रहे तथा राष्ट्रीय प्रवक्ता गजनफरअली भी उपस्थित रहे। राष्ट्रीय अध्यक्ष सावित्री चौधरी ने बताया कि हमारे राष्ट्रीय संरक्षक अनिल अग्रवाल जी राज्य सभा मे दो बच्चा नीति पर राज्यसभा में प्राइवेट मेंबर बिल लाए हैं ,जिस पर 6 अगस्त को संसद चर्चा होगी। अनिल अग्रवाल जी ने राष्ट्र का सबसे महान कार्य किया है। वही संगठन की पदाधिकारी अमन लता जी ने कहा की हमने दिल्ली में दिसम्बर 2019 में मिशन सांसदों के द्वारा चलाया 492 सांसदों और जनप्रतिनिधियों के घर तक गए, ज्ञापन दिये। उसमें राज्यसभा सांसद अनिल अग्रवाल जी को भी ज्ञापन दिया। सांसद जी ने इस पर तुरंत एक्शन लिया ,और तुरंत प्रधानमंत्री जी को राष्ट्रीय अध्यक्ष सावित्री चौधरी के नाम से पत्र लिखा, उससे पता चलता है कि वास्तव में देश को लेकर सांसद जी कितने चिंतित एवम गम्भीर हैं ।राज्य सभा सांसद जी का नाम इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों में लिखा जाएगा।

बातें तो सब बनाते हैं, लेकिन काम कितने लोग करते हैं।

संगठन की पदाधिकारी रेखा शर्मा ने कहा- अगर सरकार ने एक बच्चे पर इंसेंटिव रखा है, तो वह बिल्कुल सही है ।क्योंकि आज नई पीढ़ी ऑलरेडी 1 पर ही हैं।उनको इंसेंटिव मिलना चाहिये ,बुराई क्या है?
बहु विवाह , तलाक, से महिलाएं परेशान हैं। यह सब यूनिफॉर्म सिविल कोड के पार्ट हैं। जनसंख्या नियंत्रण के बाद उसके लिए लड़ा जाएगा । और केंद्र से 2 बच्चे से ज्यादा वाले के लिए वोटिंग राइट खत्म करने की डिमांड की जाएगी ,चूँकि वोटिंग राइट केवल केंद्र ही समाप्त कर सकती है।

संख्या समाधान फाउंडेशन के हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष बलबीर सिंह हुड्डा ने कहा- जनसंख्या नियंत्रण नीति ड्राफ्ट में कुछ राजनीतिकि पार्टियां इसमें त्रुटियां ढूंढने की नापाक कोशिश कर रही हैं। लेकिन इसमें उनको कोई कमी नहीं मिल पा रही है, चूँकि इस ड्राफ्ट में हर जाति, धर्म, समाज और खासतौर से महिलाओं का विशेष ध्यान रखकर बनाया गया है।
वहीं jsf के राष्ट्रीय प्रवक्ता गजन फर अली ने कहा कि यह ड्राफ्ट राष्ट्रहित,जनहित,समाजहित एवम लोकहित में है और हमारे एजेंडा में भी है और ज्ञापन में हमेशा यही रहता था।कि दो बच्चों से ज्यादा वाले को स्टेट गवर्नमेंट सब्सिडी बंद करें, सरकारी नौकरी बंद करें, सरकारी सुविधाएं बंद करे, और एक बच्चे वाले को इंसेंटिव दे । हमारी मांगों का सरकार ने संज्ञान लिया है जिसका का हम स्वागत करते हैं ।विरोध करने वाले चंद लोग ही होते हैं ,और सही बात है तभी तो विरोध हो रहा है । इस मुद्दे पर राजनीति नहीं होनी चाहिए।

राष्ट्रीय अध्यक्ष सावित्री चौधरी ने बताया कि कुछ लोग इस ड्राफ्ट का विरोध ,वो इसलिए भी कर कर रहे हैं। इस मुद्दे पर काम ना हो यह लटका रहे।और हमारी राजनीति होती रहे। वर्तमान सरकार से पहले कोई इस मुद्दे पर काम करना तो दूर बात तक करना भी पसंद नहीं करता था । आज वर्तमान सरकार ने और अनिल अग्रवाल जी के (राज्यसभा सांसद ) असीमित प्रयासों की बदौलत ये सब हुआ है।

राष्ट्रीय सचिव महेंद्र सिंह ने कहा कि- रास्ट्रहितार्थ एवम सेवार्थ के हिसाब से यह बिल्कुल उचित निर्णय है। इसमें 1 बच्चे पर इंसेंटिव प्लान है।दो तक सरकारी सुविधाएं एवम दो से ज्यादा पर सरकारी सुविधाओं से वंचित रहना पड़ेगा तो दो से ज्यादा वाले इससे सीख लेंगे।

JSF के राष्ट्रीय संरक्षक तथा राज्यसभा सांसद अनिल अग्रवाल जी ने कहा कि देश के लिए जनसंख्या नियंत्रण बहुत आवश्यक है ,देश में सारी समस्याओं की जड़ है, बढ़ती आबादी विश्व की 18 परसेंट आबादी हमारे भारत में निवास करती है, और हमारे पास पानी कितना है 4% वन क्षेत्र कितना है 2.4% जमीन कितनी है 2.4% हमारे संसाधन घटते चले जा रहे हैंऔर आबादी बढ़ती जा रही है। फाउंडेशन के मार्गदर्शक धर्मेंद्र कांटीवाल ने कहा कि हम सांसद जी के निर्णय का और उत्तर प्रदेश सरकार के निर्णय का स्वागत करते हैं।उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा विरोध तो मुस्लिम समाज को होना चाहिये लेकिन वो हमारे साथ खड़ा है। केवल कुछ राजनीतिक पार्टियां इनके नाम पर लोगों को बरगलाते हैं।
जनसंख्या समाधान फाउंडेशन के राष्ट्रीय सलाहकार प्रोफ़ेसर दीपक कुमार शर्मा जी ने कहा की कुछ कट्टरपंथी लोग बोलते हैं कि बच्चे अल्लाह की देन होते हैं ऐसा नहीं है कुछ इल्लिट्रेट लोग होते हैं, वही ऐसा कहते हैं वही महिलाओं को बच्चा मशीन समझते हैं। दिल्ली jsf पदादिकारी राजेशजी ने कहा कि महिलाएं तलाक के डर से और पुरुषों के अत्याचार के डर से सब सहती रहती हैं।अगर सरकार महिलाओं को रिप्रोडक्टिव राइट दे उनके लिये कानून बना दे।तो महिलाएं अत्याचार नही सहेंगीअभी कोरोना महामारी में आपने देखा होगा कहीं बेड नहीं मिल रहे ,कहीं ऑक्सीजन नहीं मिल रही है ,सबका कारण बढ़ती आबादी है।