जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर गरमाई सियासत, BJP नेताओं ने गिनाई खूबियां

जनसंख्या समाधान फाउंडेशन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुनील कुमार सिंह ने असम के CM हेमंता बिस्वा सरमा व UP के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा ‘हम दो – हमारे दो’ की नीति पर कानून लाने के लिए राष्ट्रीय अध्यक्षा सावित्री चौधरी जी के साथ पूरे जनसंख्या समाधान फाउंडेशन(रजि०1593)टीम की ओर से आभार व्यक्त करते हुए धन्यवाद ज्ञापित किया । साथ ही भारत सरकार से शीघ्र जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने की मांग की है, सुनील कुमार सिंह ने कहा कि ‘जेएसएफ’ कई वर्षों से पूरे भारत में गरीबी कम करने के लिए जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने के उद्देश्य से लोगों को जागरूक करने का अभियान चला रही है, उसी संघर्ष का परिणाम है कि आज असम व यूपी में सरकार द्वारा टू चाइल्ड पॉलिसी के लिए कानून का मसौदा तैयार किया जा रहा है,और जल्द ही इस कानून को केंद्र सरकार द्वारा अमली जामा पहनाया जायगा।
आमलोगों की जनसुविधाओं पर कटौती हो रही है

बताया की असम व यूपी सरकार के अलावा भी मध्यप्रदेश, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, उड़ीसा, उत्तराखंड, बिहार जैसे राज्यों में ‘हम दो- हमारे दो’ की नीति के लिए कुछ कानून के तहत पाबंदियां लगाई गई हैं। इस नीति के तहत राज्यों में भिन्न- भिन्न तरह की पाबंदियां लगायी गयी है जैसे सरकारी नौकरी , स्थानीय चुनाव में पाबंदी, सरकारी सुविधाओं में कटौती, सब्सिडी से वंचित जैसे कानून का प्रावधान किया गया है। कहा कि जनसंख्या वृद्धि इस कदर बढ़ रही है कि दुनिया के कई ऐसे देश हैं जिसकी आबादी अकेले यूपी की आबादी के लगभग है ।
आखिर क्यों जरूरी है जनसंख्या नियंत्रण

आज भारत दुनिया में आबादी के मामले में चीन के बाद दूसरा स्थान पर है। आंकड़े दर्शाते हैं आज भारत की आबादी 1.37 अरब और चीन की आबादी 1.41 अरब है। जबकि क्षेत्रफल के मामले में भारत का क्षेत्रफल 32.87 लाख वर्ग किमी, और चीन का क्षेत्रफल 95. 96 वर्ग किलोमीटर है। जो क्षेत्रफल के मामले में चीन भारत से 3 गुना ज्यादा है। चीन के मामले में हमारे पास संसाधन बहुत सीमित हैं। यदि जनसंख्या नियंत्रण नहीं किया गया, और जनसंख्या बृद्धि इसी तरह बढ़ती रही तो 2027 तक पूरी दुनिया में भारत पहली पायदान पर पहुंच जायगी, और यह स्थिति आने वाले पीढ़ियों के लिए किसी अभिशाप से कम न होगी।